SEO क्या है? वेबसाइट का SEO कैसे करे? Hindi Best Guide

SEO क्या है? और अपनी वेबसाइट का SEO कैसे करे? ये बात सभी के मन में ज़रूर आती है. इससे जुड़े बहुत से सवाल भी मन में आते हैं जैसे SEO की Full Form क्या है? SEO कैसे करे? SEO कितने प्रकार का होता है? On Page SEO कैसे करे? Off Page SEO कैसे करे? इत्यादि.

आज हम इस ब्लॉग पोस्ट में इन सभी सवालों के बारे में बात करेंगे. हम इस ब्लॉग में SEO के सभी टॉपिक्स को कवर करेंगे. हम केवल SEO के Techniques को कवर ही नही करंगे बल्कि आपको ये भी बतायंगे की कौन सी SEO Techniques, White Hat SEO है और कौन सी Black Hat SEO. हम आपको Website का SEO करने का सही तरीका भी बतायंगे.

चलिए अब देखते है SEO क्या है हिंदी में. और Website का SEO कैसे करते है.

SEO क्या है – What is SEO in Hindi?

SEO क्या है

SEO का मतलब है [Search Engine optimization] यह एक ऐसी तकनीक है जिससे हम अपनी वेबसाइट को सर्च इंजन के सर्च रिजल्ट पेज पर ऊँची से ऊँची रैंकिंग तक पहुंचा सकते हैं. कहने का मतलब है की हम अपनी वेबसाइट का SEO जितना अच्छा करेंगे हमारी वेबसाइट की रैंकिंग उतनी ही अच्छी होगी, जिससे हमारी वेबसाइट पर Visitors की संख्या बढ़ेगी, और हमारा ब्लॉग उतना ही फेमस होता जायेगा.

दुसरे शब्दों में कहे तो,

Search engine optimization (SEO) एक ऐसा प्रोसेस है जिसमे आप अपने वेबसाइट के कंटेंट्स को इस प्रकार डिजाईन करते हैं, जिससे आपकी वेबसाइट कुछ Keywords पर सर्च रिजल्ट में टॉप पर आये.

Search Engine क्या होता है ये तो आप सब जानते ही होंगे. और आप सभी को ये भी पता होगा की Google आजकल का सबसे ज्यादा विजिट किये जाने वाला सर्च इंजन है. Google के इलावा Bing, Yahoo, Baidu, DuckDuckGo, Ask, Aol, Yandex, Ecosia आदि भी Search Engine हैं. जो आजकल trend में हैं.

अगर आप अपनी वेबसाइट या ब्लॉग का SEO बहुत ही अच्छे तरीके से करते हैं और आपका कंटेंट अच्छा और यूनिक है तो आप Search Result में ज़रूर ही अच्छी रैंकिंग पाएंगे. हो सकता है Search Engine आपको किसी keyword पर टॉप रैंकिंग भी दे दे. उम्मीद है आपको समझ आ गया होगा की SEO क्या होता है.

SEO की फुल फॉर्म क्या है? SEO Full Form in hindi

SEO की फुल फॉर्म क्या है

SEO का Full Form “Search Engine Optimization” होता है.

SEO का Meaning “Search Engine Optimization” होता है.

हमने SEO की Basic जानकारी ले ली है चलिए अब हम SEO के Technical Sides भी देख लेते है.

चलिए अब जानते है की SEO कैसे काम करता है, चलिए हम “Google” Search Engine के Example से समझते हैं.

SEO कैसे काम करता है?

Search Engine कैसे काम करता है?

Search Engine कैसे काम करता है

जब हम Google पर कुछ ढूंढने के लिए keyword टाइप करते हैं तब Google के Algorithms, Search keyword के लिए बेस्ट रिजल्ट अपने Database से खोजकर सर्च रिजल्ट पेज (SERP) पर दिखाते हैं.

लेकिन क्या आपने कभी ये सोचा है की Google लाखो Websites में से Best Result कैसे ढूंढता है. ये बहुत ही Complex प्रक्रिया है लेकिन हम आपको इसे आसान भाषा में बतायंगे ताकि आपको समझने में कोई प्रॉब्लम न हो.

Google (अन्य Search Engines) Internet से Information जुटाने के लिए Crawlers का सहारा लेते है. ये Crawlers Internet पर मौजूद सभी Websites को Check करते है और सभी Information और Data को अपने Database में Store करते है.

इसके बाद Search Engine उस Data को Category Wise Filter करके अपने Local Servers में Store करता है. फिर Indexing की प्रक्रिया शुरु होती है. Indexing के लिए Search Engines अपने Algorithms का यूज़ करती है.

ये Algorithms Best Results को Filter करके Search Result Page में दिखाता है.

ये Algorithms बहुत ही Advanced Technology से लैस होते है और सभी Information और डाटा को बहुत से Factors पर Analyze करते है. जैसे

Search Engine Factors

Relevancy: Google सबसे पहले Keyword के सबसे Closely Related Matched Content को Filter करता है.

Authority: किसी भी Website को Rank करने से पहले Google, Website की Authority Check करता है ताकि पता चल सके की Website कितनी Trustworthy है. इसके लिए Google उस Website के Backlinks को Analyze करता है.

Usefulness: ये सबसे ज़रूरी Factor में से एक है. क्युकी Content कितना भी Relevant और Authoritative क्यों न हो लेकिन अगर वो User के लिए Useful Information नही देता तो वो Top Rank नही करेगा.

Note: Google Crawlers को Google Bots भी कहते है.

बाकी Search Engines भी इसी तरह काम करते है.

अभी हमने SEO के SE (Search Engine) की बात की अब बात करते है O – Optimization की.

इस Competitive युग में केवल अच्छे कंटेंट से काम नही चलेगा बल्कि अच्छे Content के साथ Website को Optimize भी करना होगा. ताकि Search Engines को आपकी Website को Indexing करने में आसानी हो. चलिए देखते है Website का SEO क्यों जरुरी है ताकि हम समझ पाए की हमें Website को Optimize करने की ज़रूरत क्यों है.

SEO क्यों जरूरी है? – SEO Importance Hindi

SEO क्यों जरूरी है

आज के समय में जब केवल Google पर ही लोग रोज़ 3 ट्रिलियन [3,000,000,000,000] से ज्यादा बार सर्च करते हैं तो सोचिये सभी Search Engine पर रोजाना कितनी बड़ी मात्र में सर्च होता होगा. ऐसे में सर्च रिजल्ट के Top Rank के लिए Websites के बीच कितनी प्रतिस्पर्धा रहती होगी.

अगर अभी भी आपको SEO क्यों जरूरी है नही पता चली तो अब जो हम आपको बताने जा रहे हैं उसको सुन कर आप SEO क्यों जरूरी है इसको ज़रूर समझ जायंगे.

Google के सर्च रिजल्ट पेज पर Total Click का 60-70% क्लिक्स टॉप 5 पेज पर ही होता है. बाकी 30-40% क्लिक्स बाकी की सभी रैंकिंग वाली Websites में बट जाती है. तो इससे पता लगता है की Google की सर्च रिजल्ट के टॉप 5 लिस्ट में Website का होना कितना मायने रखता है.

ऐसे में अपनी वेबसाइट को सर्च रिजल्ट पेज में टॉप रैंकिंग दिलाने के लिए SEO [Search Engine optimization] कितना ज़रूरी है इसका एहसास आपको हो ही गया होगा.

Moz.com के Founder ने SEO के Importance को समझाने के लिए एक Basic SEO Pyramid Structure तैयार किया है जिसे Mozlow’s hierarchy of SEO कहते है. इसमें SEO के Basic Structure और ज़रुरतो को दिखाया गया है.

Mozlow's hierarchy of SEO

इस फोटो में दिए गए 7 Steps को Follow करके अपनी Website का SEO कर सकते है.

उम्मीद है की आपने SEO क्या है जान लिया होगा. चलिए अब देखते हैं SEO के उन तरीको को जिसकी मदद से हम Website का SEO सही ढंग से कर सकते है. SEO के प्रकार Hindi.

Types of SEO – SEO के प्रकार Hindi

SEO के प्रकार Hindi

वैसे तो SEO कई प्रकार के होते हैं. पर हम यहाँ कुछ सिलेक्टेड और सबसे महत्वपूर्ण SEO के प्रकार की बात करेंगे

  1. On Page SEO [ऑन पेज SEO]
  2. Off Page SEO [ऑफ पेज SEO]
  3. Technical SEO [टेक्निकल SEO]
  4. Local SEO [लोकल SEO]
  5. White Hat SEO [वाइट हैट SEO]
  6. Black Hat SEO [ब्लैक हैट SEO]
  7. Gray Hat SEO [ग्रे हैट SEO]
  8. Negative SEO [नेगेटिव SEO]

1. On Page SEO Hindi [On Page SEO क्या है?]

On Page Seo में आपको अपने वेबसाइट या ब्लॉग को SEO फ्रेंडली बनाना होता है.

आपको अपनी वेबसाइट या ब्लॉग के कंटेंट पर ध्यान देना होता है क्युकी आपने ये ज़रूर सुना होगा की “Content is King“. आपको अपने कंटेंट को इस तरह लिखना होगा जिससे आप ON Page SEO के सभी नियमो का पालन कर रहे हों.

आपको अपने वेबसाइट या ब्लॉग पर Quality Content लिखना होगा, आपको High रैंकिंग Keywords वेबसाइट में यूज़ करना होगा जो सर्च इंजन में सबसे ज्यादा सर्च होता हो.

अपने Keywords को वेबसाइट के सभी Important जगहों जैसे की Title, Links, Meta Description, Content, Alt Tags और Headings में ज़रूर यूज़ करें, इससे Google को ये जानने में आसानी रहेगी की आपका ये ब्लॉग या वेबसाइट किस टॉपिक पर है या किस टॉपिक से रिलेटेड है. Google इसी हिसाब से आपके ब्लॉग या वेबसाइट को अपने डेटाबेस में इंडेक्स करेगा. जिससे आपकी रैंकिंग पर बहुत असर पड़ता है.

On Page SEO कैसे करें?

चलिए अब कुछ ऐसे On Page SEO की टेक्निक्स के बारे में जानते हैं जिससे आपकी वेबसाइट को सर्च रिजल्ट में रैंक पाने में मदद मिलेगी.

Page Title Tag

आपको अपने सभी पेज पर यूनिक टाइटल देना होगा. अपने Title में अपने Focus Keywords को ऐड करना न भूले. अपने Title को इतना आकर्षक बनाये की आपका विजिटर टाइटल देखते ही आपकी वेबसाइट को विजिट करे.

अपने Title को 65 Words से बड़ा न रखे. क्युकी Google 65 Words से ज्यादा अपने सर्च रिजल्ट पेज में शो नही करता.

Meta Description Tag

Google Search Page पर वेबसाइट का Description भी शो होता है इसलिए On Page SEO में इसका भी बहुत महत्व है, इसमें आप अपने विजिटर को सर्च पेज पर ही कुछ इनफार्मेशन देते हो जिसको पढने के बाद आपका विजिटर आपकी वेबसाइट पर आने का मन बनता है.

आपको इसमें भी अपने keyword का यूज़ करना है और इसको बहुत हे Attractive बनाना है ताकि यूजर आपकी वेबसाइट की तरफ Attract हो. Meta Description को 200 words से ज्यादा लम्बा न रखे.

High Quality Content and Keywords

अपने वेबसाइट या ब्लोग में High Quality Content लिखने का प्रयास करे, अपने Keywords को कंटेंट में यूज़ करना न भूले. ये बात हमेशा ध्यान रखे की “Content is King”. इसलिए कभी भी कही से कंटेंट कॉपी पेस्ट न करे, क्युकी Google के Algorithm इतने तेज़ हैं की उन्हें पता चल जायेगा की ये कंटेंट चोरी किया हुआ है, तो वो आपके लिंक को ब्लैकलिस्ट कर सकता है या रैंकिंग डाउन कर सकता है.

Images

Images किसी भी वेबसाइट के लिए बहुत जरुरी होते हैं, ये आपकी वेबसाइट को बहुत ही आकर्षित बनता है. images आपके वेबसाइट के यूजर एक्सपीरियंस को बढ़ाते हैं. इसलिए हमेशा अच्छे क्वालिटी और लाइट Images यूज़ करना चाहिए. जिससे वेबसाइट आकर्षक भी दिखे और वेबसाइट स्लो भी न हो.

Internal Links

अपनी वेबसाइट में अपने दुसरे इंटरनल लिंक्स को ऐड करना ज़रूरी है. लेकिन इसका ये मतलब नही की आप कही भी कुछ भी लिंक ऐड कर रहे हैं. Internal linking से आप अपने विजिटर को इस पोस्ट से जुडी हर प्रकार की जानकारी प्रदान करते हो.

जब भी Google के Crawlers आपकी वेबसाइट को स्कैन करने आते है तो आप उसे अपनी Related पोस्ट्स की जानकारी देते हो, जिससे Google को भी आपकी वेबसाइट स्कैन करने और इंडेक्स करने में आसानी होती है.

इससे विजिटर को आपकी वेबसाइट पर ज्यादा समय बिताने का मौका मिलता है, और आपका व्यू time बढ़ता है. और आपका बाउंस रेट भी कम होता है.

External Links

External Links वो लिंक्स हैं जो आपकी Websites के बाहर के लिंक्स को पॉइंट करते हैं. मतलब की जो भी लिंक आपके विजिटर को आपकी वेबसाइट से बहार लेकर जाते हैं उसको External Links कहते हैं, और जो लिंक्स Visitors को हमारी वेबसाइट तक लेट हैं उसको Backlinks कहते हैं.

External Links से google को ये अंदाज़ा लगता है की आपका ब्लॉग या वेबसाइट किस बारे में है. वैसे तो ये External Links आपकी SEO में डायरेक्ट कोई मदद नही करता लेकिन आजकल ये एक क्वालिटी स्टैण्डर्ड बन गया है. इसलिए हमें External Links भी अपने वेबसाइट में ऐड करना चाहिए.

Headings

Website या Blog में अगर आपको SEO करना है तो आपका काम बिना Headings का नही होने वाला. क्युकी Google वेबसाइट में सबसे पहले Headings ही Crawl करता है. वेबसाइट का पॉइंट ऑफ़ अट्रैक्शन Headings ही होते हैं. इसलिए आपको H1, H2, H3, H4, H5, H6 सभी Headings को ज़रूरत के हिसाब से यूज़ करना चाहिए.

Headings to the point और short में होना चाहिए. Headings में सारी राम कहानी नही लिखनी है. अपने important keywords को Headings में ज़रूर यूज़ करे.

Alt Tags

जब भी हम कोई Image वेबसाइट में यूज़ करते हैं तो हमें Image का Alt Tags ज़रूर भरना है, क्युकी सर्च इंजन के Crawlers जब भी वेबसाइट पर Crawl करते हैं तो उन्हें Image के बारे में कुछ भी पता नही होता, वे Image को नही पढ़ पाते.

इसलिए Image के साथ उसका Alt Tags लिखा जाना बहुत ज़रूरी होता है, क्युकी Alt Tags से हे Crawlers को पता चलता है की Image किस बारे में है. जिससे वेबसाइट का SEO अच्छा होता है. और वेबसाइट SEO फ्रेंडली बनती है.

Website Navigation

आपको अपनी वेबसाइट के नेविगेशन में ज्यादा ताम झाम नही करना है. वेबसाइट का नेविगेशन एक दम सिंपल रखे. जिससे आपके विजिटर को कोई प्रॉब्लम न हो. उसको जो भी चाहिए उसको आराम से मिल जाये.

अगर आपने अपना Navigation थोडा भी काम्प्लेक्स बना दिया तो यूजर कंफ्यूज हो सकता है. और उसको आपकी वेबसाइट का अच्छा एक्सपीरियंस नही होगा तो वो आपकी वेबसाइट से दूसरी वेबसाइट पर चला जायगा.

Website Speed

वेबसाइट की स्पीड SEO के लिहाज़ से बहुत Important है. ज्यादातर देखा गया है की कोई विजिटर ज्यादा से ज्यादा 5-6 सेकंड ही किसी वेबसाइट के खुलने का इंतज़ार करता है. अगर वेबसाइट खुलने में इससे ज्यादा समय लेती है तो विजिटर किसी और वेबसाइट पर चला जाता है.

Google वेबसाइट की स्पीड पर भी नज़र रखता है. क्युकी Google अपने Users को बेस्ट रिजल्ट देना चाहता है. वो नही चाहेगा की उसके किसी भी यूजर को इंतज़ार करना पद रहा हो या उसका एक्सपीरियंस खराब हो.

इसलिए वेबसाइट को Speed Optimized रखना चाहिए.

Images को compress कर के वेबसाइट में यूज़ करना चाहिए.

हलके थीम्स का यूज़ करना चाहिए.

वेबसाइट को सिंपल और साफ़ सुथरा रखना चाहिए.

2. Off Page SEO Hindi [Off Page SEO क्या है?]

Off Page SEO कहने का मतलब है की वो SEO Practice जिसको हम अपनी वेबसाइट से बाहर करते हैं जिससे हमें सर्च इंजन में हाईएस्ट रैंकिंग प्राप्त हो.

Off Page SEO में हमें अपनी वेबसाइट का Promotion करना होता है.

Off Page SEO में आपको अपनी वेबसाइट के लिए Backlinks बनाने होते हैं, जिसे आपको अपने से High Authority Website पर बनाना होता है.

Backlinks बनाने के लिए आप बहुत से तरीके अपना सकते हैं, जिसके बारे में हम आगे बात करेंगे.

आपको अपने वेबसाइट या ब्लॉग के लिए अलग अलग Social Networking sites जैसे Facebook, Instagram, Youtube, Twitter, Pintrest, Quera etc पर अपना प्रोफाइल बनाना होगा, और अपने कंटेंट को वह भी शेयर करना होगा.

ऐसा करने से एक तो वह आपका Backlink बनेगा, दूसरा आप वहां से Visitors अपनी वेबसाइट पर ला सकते हैं. जब भी आपकी Social Media Posts आपके फोल्लोवेर्स देखेंगे तो हो सकता है उन्हें उस पोस्ट के बारे में इंटरेस्ट हो तो वो ज़रूर हे आपकी पोस्ट पढना पसंद करेगा.

इस तरीके से आप अपनी वेबसाइट पर ट्रैफिक का जुगाड़ भी कर लेते हैं और आपका प्रोफाइल भी बिल्ड हो जाता है. जिससे Google भी सोचता है की आप एक रेपुटेड वेबसाइट हैं. और फिर Google आपको भी प्रायोरिटी देता है.

चलिये अब जानते हैं Off Page SEO कैसे करे?

Off Page SEO कैसे करे?

यहाँ हम कुछ ऐसी Off Page SEO टेक्निक्स की बात करेंगे जो बहुत SEO के लिहाज से बहुत ही ज़रूरी हैं. अगर आप ये सभी तकनीक यूज़ करेंगे तो आपको SEO करने में ज़रूर फायदा होगा. और आपको अपनी वेबसाइट की रैंकिंग में बहुत जल्दी सुधर देखने को मिलेगा.

Quick Tips: हमेशा अपने Content के Relevant Website पर ही Backlinks बनाये.

Quick Tips: Backlinks बनाने से पहले उस Website का Domain Authority और Page Authority ज़रूर Check के ले. हमेशा High DA, PA वाली Website पर ही Backlinks बनाने का प्रयास करे.

Social Media Engagement

आपको अपने वेबसाइट या ब्लॉग के लिए अलग अलग Social Networking sites जैसे Facebook, Instagram, Youtube, Twitter, Pintrest, Quera, Linkdin etc पर अपना प्रोफाइल बनाना होगा, और अपने कंटेंट को वह भी शेयर करना होगा.

Search Engine Submission

आपको अपनी वेबसाइट को google search console में सबमिट करवाना होगा. जिससे Google को आपके आर्टिकल के पब्लिश होते ही जानकारी मिल जाये और आपको तुरंत ही अच्छी रैंकिंग मिल जाये.

Social Bookmarking

अगर आपको अपनी वेबसाइट का DA, PA बढ़ाना है और Google की नज़र में अपनी वेबसाइट के स्टैण्डर्ड को बढ़ाना है तो आपको Social Bookmarking sites पर Social Bookmarking करना होगा.

जब भी आप अपनी साईट की Social Bookmarking करते है तो आपको धीरे धीरे हाई ट्रैफिक मिलना सुरु हो जाता है.

NoSocial Bookmarking sitesDAPA
1https://www.reddit.com9381
2http://diigo.com8973
3https://www.tumblr.com/8775
Directory Submission

जैसे मोबाइल और फ़ोन नंबर की डायरेक्टरी होती है ऐसे ही Internet पर भी वेबसाइट के लिए वेब Directory होती है. जहा हमें अपनी वेबसाइट या ब्लॉग को सबमिट करना होता है.

वैसे मै ये बता दू की यहाँ कोई Govt डायरेक्टरी नही होती. बल्कि अलग अलग कम्पनीज होती हैं जो वेब डायरेक्टरी का काम करती हैं.

रेगुलर बेसिस पर अपना ब्लॉग और वेबसाइट को Directory Submission करते रहना चाहिए. इससे भी हाई ट्रैफिक generate होता है और आपके वेबसाइट का DA, PA इम्प्रूव होता है.

Article Submission

आपको अपने ब्लॉग के आर्टिकल्स को अलग अलग जगह सबमिट करना होगा और आपको अपना फोकस keyword भी यूज़ करना होगा.

इससे जब Google का सर्च इंजन जब उस Submitted आर्टिकल को रीड करेगा तो उसको लगेगा की भाई ये आर्टिकल बहुत जगह Same keyword पर मौजूद है. ज़रूर ही इस आर्टिकल में कुछ ख़ास बात होगी. जिससे आपकी रैंकिंग इम्प्रूव होगी.

Forum Submission

आपको अलग अलग Forums पर जाकर अपनी बात रखनी चाहिए. लोगो से जान पहचान बनानी चाहिए. तथा वह अपना Backlink ज़रूर क्रिएट करना चाहिए.

Question and Answer

आपको ऐसी Websites पर जाना चाहिए जहा लोग Question and Answer पूछ रहे हो. वह आपको वैल्यू क्रिएट करनी है और Backlink तो लेना ही है.

जब आप वह किसी सवाल का जवाब देंगे तो लोगो को लगेगा कि आपको इस विषय में बहुत नॉलेज है.

और वो आपकी वेबसाइट से ज़रूर जुड़ना पसंद करेंगे.

Video Submission

अगर आपको वीडियोस बनाना पसंद है और आप उनको फेमस करना चाहते हैं तो आपको अपने वीडियोस को अलग अलग प्लेटफॉर्म्स पर सबमिट करना होगा साथ ही आपको अच्छा सा टाइटल देना होगा, हाई सर्च keyword यूज़ करना होगा, और अपनी वेबसाइट का लिंक भी देना होगा.

Image Submission

आपको अपनी वेबसाइट से रिलेटेड फोटोज को अलग अलग फोटो Sharing प्लेटफॉर्म्स पर शेयर करना होगा. वह से भी आप अपनी वेबसाइट पे Visitors को अत्त्रक्ट कर सकते हो.

Infographics Submission

आजकल ज़माना Infographics का है भाई, लोग आजकल ज्यादा भरी भरकम पोस्ट्स पढना पसंद नही करते, उन्हें तो बस Short Cut में सब इनफार्मेशन दे दो.

इसमें Infographics बहुत हेल्पफुल होते हैं. क्युकी Infographics में आप Image के साथ इनफार्मेशन भी दे देते हैं.

तो आप थोडा सा क्रिएटिव बनिए, अलग अलग Infographics डिजाईन करिए और उन्हें शेयर करना स्टार्ट करिये.

Document Sharing

आप अपने वेबसाइट या ब्लॉग से रिलेटेड डाक्यूमेंट्स PDF या PPT के फॉर्म में बना कर शेयर कर सकते हैं, इससे भी आप अपनी वेबसाइट के लिए Visitors जुटा सकते हैं.

Google My Business

Google My Business बहुत तेज़ और अच्छा मेथड है Off Page SEO करने का. क्युकी ये Google का ही एक टूल है. अगर आपकी प्रेसेंसे वह रहेगी तो इससे ज़रूर ही आपको अपनी SEO में फायदा मिलेगा.

Creating Shareable Content

आपको ऐसे कंटेंट बनाना होगा जिसे लोग शेयर करना पसंद करे. इससे लोगो में आपकी वेबसाइट की वैल्यू बढ़ेगी और आप नए नए Visitors तक अपनी पहुँच बना सकते हैं.

Guest POST

आप Guest Posting का सहारा भी ले सकते हैं, आजकल बहुत सी Websites आपको Guest Posting करने के लिए Allow करती हैं, लेकिन आपका पोस्ट यूनिक और ओरिजिनल होना चाहिए. गेस्ट पोस्ट करते समय आपको अपनी वेबसाइट का Backlink भी बनाना होगा. जिससे आपकी वेबसाइट की Reputation बढ़ेगी.

3. Technical SEO Hindi

Technical SEO में आपको अपनी वेबसाइट के Technical पहलुओ की तरफ ध्यान देने की ज़रूरत है. इसमें बहुत सारे छोटे छोटे टर्म्स हैं जिनका रिजल्ट पेज की रैंकिंग पर असर बहुत होता है. आईये इन्हें एक एक करके देखते हैं.

Specify a Preferred Domain

आपको अपने वेबसाइट के डोमेन नाम को किसी एक डोमेन नाम पर सपेसिफिक करना होगा. क्युकी मान लेते हैं आपकी वेबसाइट www.xyz.com है, आप जब xyz.com लिखेंगे तब भी आपकी वेबसाइट ही खुलेगी और अगर हम https://xyz.com या https://www.xyz.com लिखेंगे तब भी आपकी वेबसाइट ही खुलेगी.

अब आपको भले ये अच्छा लग रहा हो, लेकिन Google इसको अच्छा नही मानता. वो इन सब वेबसाइट को अलग अलग मानता है. तो अगर आपने कोई क्वालिटी कंटेंट लिखा है तो Google इसे भी आपकी वेबसाइट का कॉपी हे समझेगा. जिससे आपकी वेबसाइट की रैंकिंग प्रभावित होगी.

इसलिए आपको अपनी वेबसाइट को किसी भी एक वेबसाइट पर Redirect करना होगा.

Optimize Robots.txt

Robots.txt फाइल आपके Root Directory में मौजूद होता हैं. जो सर्च इंजन के Crawlers को ये बताता है की आपकी वेबसाइट के किस पेज को Crawl करना है और किस पेज को नही. Robots.txt फाइल की सेटिंग ज़रूर करे, क्युकी ये बहुत हे सीरियस बग पैदा कर सकता है.

Optimize Your URL Structure

अब बारी आती है आपके वेबसाइट के URL Structure की. आपको अपने URL की प्रॉपर Formatting करनी होगी.

  • URL बनाने के लिए हमेशा lowercase characters का ही इस्तेमाल करे.
  • हमेशा दो शब्दों को अलग करने के लिए “-” का इस्तेमाल करे.
  • अपने URL को छोटा रखें.
  • हो सके तो अपने टार्गेटेड keyword का ज़रूर इस्तेमाल करें. लेकिन Google के keyword Stuffing को भी ध्यान में ज़रूर रखे.
Navigation and Site Structure

अपनी वेबसाइट के Navigation and Site Structure को हमेशा क्लीन और आसान रखे. ताकि विजिटर को कोई परेशानी न हो.

Implement Structured Data Markup

Structured Data Markup का यूज़ ज़रूर करें. जैसे जैसे Google खुद को अपडेट कर रहा है वैसे वैसे हमें भी उसके अनुसार खुद को अपडेटेड रखना होगा.

आजकल Google बहुत सारे Structured Data Markup यूज़ करता है. तो आपको अपने कंटेंट और वेबसाइट को Structured Data Markup के हिसाब से ही डिजाईन करना होगा.

XML Sitemap Optimization

XML Sitemap वेबसाइट का एक बहुत ही ज़रूरी अंग है.

XML Sitemap में आपकी वेबसाइट के सभी Posts और Pages के Link होते हैं.

ये सर्च Engines के Crawlers को बताते हैं की कौन कौन से Pages और Posts इस Website में हैं.

XML Sitemap crawlers के लिए एक गाइड की तरह काम करते हैं.

SSL and HTTPS

आजकल सिक्यूरिटी बहुत Important है. इसलिए Google भी अब बस उन्ही Websites को अहमियत देता है जिसके पास SSL सर्टिफिकेट होता है और वो HTTPS से सिक्योर्ड होता है. इसलिए अपनी वेबसाइट में SSL and HTTPS ज़रूर इनस्टॉल रखे.

Website Speed – Faster is better

Website Speed SEO के लिहाज़ से बहुत Important है. ज्यादातर देखा गया है की कोई Visitor ज्यादा से ज्यादा 3-4 सेकंड ही किसी वेबसाइट के खुलने का इंतज़ार करता है. अगर Website खुलने में इससे ज्यादा समय लेती है तो विजिटर किसी और Website पर चला जाता है.

Google Web Speed पर भी नज़र रखता है. क्युकी Google अपने Users को Best Result देना चाहता है. वो नही चाहेगा की उसके किसी भी User को इंतज़ार करना पद रहा हो या उसका Experience खराब हो.

  • Website को Speed Optimized रखना चाहिए.
  • Images को Compress कर के वेबसाइट में यूज़ करना चाहिए.
  • हलके थीम्स का यूज़ करना चाहिए.
  • वेबसाइट को सिंपल और साफ़ सुथरा रखना चाहिए.
Accelerated Mobile Pages (AMP)

Accelerated Mobile Pages को Google ने Introduce किया है, इसकी हेल्प से वह मोबाइल पर Websites को बहुत तेज़ी से लोड करता है.

जो Websites Accelerated Mobile Pages (AMP) तकनीक से लेस हैं, Google ऐसे तो रैंकिंग में वरीयता AMP के आधार पर नही देता है. लेकिन अगर Google AMP को सपोर्ट करता है तो हमें ज़रूर ही इसको अपनी वेबसाइट में यूज़ करना चाहिए

4. Local SEO Hindi

Create a Google My Business Account

आपको अपनी वेबसाइट या ब्लॉग का Google My Business Account बनाना चाहिए. और अपने आर्टिकल्स वह शेयर करना चाहिए. इससे आप बहुत सारे Backlinks Create कर पायंगे और बहुत सारे Visitors को Attract कर पाएंगे.

Create Content Based on Local News Stories or Events

अपने कंटेंट में लोकल न्यूज़ और इवेंट्स को कवर करना न भूले.

5. White Hat SEO Hindi

White Hat SEO से हमारा तात्पर्य अच्छे SEO प्रैक्टिस से है.

White hat SEO techniques वो टेक्निक्स हैं जो सर्च रिजल्ट में आपके रैंकिंग को इम्प्रूव करते है.

White hat SEO techniques भले ही स्लो होती है लेकिन ये बहुत ही असरदार और लॉन्ग-लास्टिंग होते हैं.

यहाँ हम आपको कुछ White hat SEO की टेक्निक्स के बारे में बताते हैं.

  1. Quality content [कंटेंट की क्वालिटी]
  2. Content-relevant keywords [कंटेंट की relevancy]
  3. Keyword-rich page titles and metadata
  4. inbound links
  5. Simple website navigation
  6. Fast page loading times

यह भी पढ़े: White Hat SEO क्या है और कैसे करे?

6. Black Hat SEO Hindi

अब बात करते हैं Black Hat SEO की. ये SEO में Bad प्रैक्टिस होती है. हम ऐसा न करने की सलाह देते हैं.

इस Black Hat SEO Techniques Hindi में आपको बहुत जल्दी रिजल्ट देखने को मिलेगा, लेकिन ये ज्यादा समय के लिए नही होगा. और जल्दी ही आपकी रैंकिंग डाउन होने लगेगी.

कई बार Google Black Hat SEO Practice करने वाली वेबसाइट को ब्लाक भी कर देता है. जिससे आपकी वेबसाइट सर्च रिजल्ट पेज पर दिखेगी ही नही. और आपका सारा ट्रैफिक जीरो हो जायगा.

Black Hat SEO की टेक्निक्स Hindi

  1. Keyword Stuffing
  2. Meta Keyword Stuffing
  3. Link Farming
  4. Cloaking Your Content
  5. Publishing Bad Content

7. Gray Hat SEO Hindi

जैसा की इसके नाम से ही पता चलता है, Gray Hat SEO, White Hat SEO और Black Hat SEO को मिला कर बनता है, इसमें हम कुछ White Hat SEO Techniques को Black Hat SEO Techniques में मिला कर यूज़ करते हैं. वैसे हम इस तकनीक के इस्तेमाल की भी सलाह नही देंगे.

Gray Hat SEO Techniques Hindi

  • Cloaking
  • Purchasing old domains
  • Duplicate content
  • Link buying
  • Social media automation and purchasing followers
  • Schema Markup
  • E-E-A-T (short for “Expertise, Experience, Authority and Trustworthiness”)
  • Voice Search SEO
  • Optimize YouTube Videos

Conclusion

हम उम्मीद करते है की Seo क्या है और कैसे करे ये आपको समझ आ गया होगा. अब आपको ये भी समझ आ गया होगा की अपने ब्लॉग या वेबसाइट का SEO कैसे करते है. अगर आपको इस आर्टिकल से रिलेटेड अभी भी कोई Doubts हों तो हमें कमेंट्स बॉक्स में कमेंट कर के ज़रूर बताएं. हम आपके कमेंट का जवाब ज़रूर देंगे.

अगर आपको हमारा ये ब्लॉग अच्छा लगा हो तो कृपया शेयर और कमेंट करना न भूलें. इससे हमें ऐसे ही अच्छे अच्छे पोस्ट्स लिखने की प्रेरणा मिलती है.

Leave a Comment